HindiBhashi: हिन्दी में SEO और Digital Marketing की पूरी जानकारी

Blogging, SEO, Digital Marketing aur Social Media se related sampurn jankari hindi me jise sikhkar aap Online Work from home se Paise kamaa sakte hai

Krishna

Friday, March 27, 2020

single niche topic blogging kya hai

Niche (Topic) blogging क्या है? Single Niche पर Blog लिखे या Multiple Niche पर 

single niche blog image

जब भी हम किसी नए विषय के बारे मे पढ़ना और जानना शुरू के करते है, हमें नये - नये शब्द मिलने शुरू हो जाते है। अब आप blogging पढ़ - समझ रहे है, चाहे अपने interest से या लोगों से सुनकर। जैसे ही आपने blogging को समझना शुरू किया आपके सामने SEO , Backlink , crawler और न जाने क्या- क्या शब्द आने शुरू हो गए। उन्हीं में से एक शब्द आपके सामने आ गया niche, जिसको आपने पहले न कभी पढ़ा था न सुना था । 

blog में SSL Security क्यों जरूरी है

Longtail Keywords के क्या फायदे है

सबसे पहले तो ब्लॉगिंग शब्द ही हमारे लिए नया होता है क्योकि न तो किसी school के class में न ही किसी course में हमें देखने सुनने को मिलता है। अब चुकी हम blogging शब्द को जान चुके है और niche शब्द पर अटक गए है तो चलिये समझते है niche क्या है?

Niche क्या है ?

बहुत ही साधारण सा शब्द है जिसका अर्थ होता है Topic या विषय। अब आप समझ गए खोदा पहाड़ निकली चुहिया । जब कोई व्यक्ति ब्लॉगिंग शुरू करता है तो कोई भी एक विषय को लेकर चलता है, जिसपर उसका पकड़ है। अगर अभी भी नहीं तो उदाहरण से समझे। शिक्षा, स्वास्थ, योग, technology, इत्यादि ये सब blog का Topic या niche है। 

Niche (Topic) कितने प्रकार के होते है ?

समान्यतया niche तीन प्रकार के होते है :-
  1. Micro niche 
  2. Single Niche
  3. Multiple Niche  

 Micro Niche क्या है

micro niche blog image


जैसा की आप जानते है Micro का शाब्दिक अर्थ होता है शुक्ष्म। इससे आप आसानी से समझ सकते है कि इसका आकार- प्रकार single niche से भी छोटा होता है। शिक्षा एक single niche है, लेकिन ये एक बहुत बड़ा niche है। इस विषय पर लिखने वाला blogger शिक्षा से संबन्धित किसी भी विषय पर लिख सकता है, जैसे JEE, NEET, UPSC, Management अथवा किसी class से संबन्धित किसी भी विषय के ऊपर। 

लेकिन अगर एक blogger केवल JEE या NEET या ऐसे ही किसी एक sub category को लेकर लिखता है तो ये micro niche या micro niche blogging कहलाता है। 

आम तौर पर Micro niche blogging का life सीमित समय के लिए होता है और इसमें समय भी कम लगता है। इसको बार- बार अपडेट कि जरूरत नहीं पड़ती। 

आपको blog का एक structure तैयार करना होता है, उसके बाद उसके बाद विषय से संबन्धित 25-50 post लिखने होते है। इसके बाद जो करना है गूगल को करना है और आप दूसरे micro niche blogging के बारे में सोचना शुरू कर दीजिये। 

SEO Friendly Post का स्वरूप कैसी होनी चाहिए

Alt Text क्या होता है और क्यों जरूरी है

Micro Niche Blogging के फायदे और नुकसान 


आम तौर पर हर चीज के कुछ फायदे तो कुछ नुकसान भी होते है, देखना ये है कि फायदा ज्यादा है या नुकसान। अब हम इस चीज का आकलन करेंगे, फिर निर्णय आपको करना है।

Micro Niche Blogging के फायदे 

Micro Niche Blogging के कई तरह के फायदे है, जिसमें कुछ फायदे साफ दिखते है जैसे-

Low Competition 

इस तरह के blog खासकर वो लोग लिखते है जो technology के एक्सपेर्ट है। मार्केट में बराबर कुछ-न-कुछ नई - नई technology आती रहती है। वो कोई hardware के रूप में भी हो सकता है और software के रूप में भी।

Technology हमतक आते-आते आती है। कई ऐसी technology होती है जिसको हम खरीद तो लेते है पर use करने में परेसानी आती है। कई बार हम कोई technology खरीदते है और उसको अपने हिसाब से modify करना चाहते है। इसका समाधान हमें इसी micro niche से मिलता है, जिसको हम search engine पर ढूँढना शुरू करते है।

अब तरह के समाधान तो कोई technology expert ही निकाल सकता है जो नई-नई आनेवाली technology पर नजर रखता हो साथ में उससे संबन्धित आनेवाली समस्याओं का समाधान भी पहले से जानता हो। 

इसलिए कह सकते है कि micro niche blogging में competition कम है page को rank करने में आसानी होती है।  

Maximum Profit 

इस तरह का niche blog एक तरह से प्रॉडक्ट का काम करता है। इस तरह के ब्लॉग पर आनेवाले visitors 100% genuine होते है। चूकी ये अपने जरूरत के हिसाब से आपके ब्लॉग पर आते है और एकबार जब आते है तो बार-बार आते है क्योकि उनके पास ज्यादा option नहीं होता। यहीं कारण है कि इस तरह के साइट पर visitors का bounce rate बहुत ही कम होता है, visitors ज्यादा वक्त आपके site पर बिताते है। अगर समस्या के समाधान के लिए आपको कुछ खरीदना होता है तो इन्हीं के लिंक से मिल जाता है। 

ये सारे कारण ब्लॉगर के लिए आमदनी का जड़िया बनता है, जो एक professional blogger का उद्द्येश्य होता है। 

Adsense approval में आसानी 

चुकि  blog एक खाश विषय से संबन्धित होता है, post और readers genuine होते है, bounce rate न के बराबर होता है। ऐसे site को Google adsense  के लिए तुरत approval देता है। चुकि readers ऐसे ब्लॉग पर ज्यादा वक्त विताते है तो इसपर Affiliate Marketing से भी कमाई के chance ज्यादा होते है। 

Micro Niche Blogging का नुकसान

अगर हम Micro Niche Blogging की तुलना Single Niche या Multiple नीचे से करे तोइसपे आना वाला traffic और की तुलना में कम होता है, जिस कारण इसके subscribers भी कम होते है। कारण है इस तरह के ब्लॉग एक छोटे से sub category को represent करते है जिस कारण इसपर contents कम होते है । 

लेकिन अगर हम तुलनात्मक अध्ययन करे तो जहां एक single niche blog के मेहनत में पाँच  Micro niche ब्लॉग बना सकते है वही एक multiple niche blog के मेहनत के बराबर बीसियों micro niche blog बना सकते है। 

इस तरह अगर हम traffic को calculate करे तो घाटे नहीं बल्कि मुनाफे का सौदा है । 

Single Niche Blogging के फायदे और नुकसान 

ये एक परिवार के जैसा है। जैसे मै ये post blogging niche के ऊपर लिखा रहा हूँ। इस site में आपको ब्लॉगिंग से संबन्धित topic जैसे  SEO, Backlink, Content writing, Blogging से Income जैसे topic पर post मिलेंगे। ये सारे एक तरह से Micro topic है। हाँ इस ब्लॉग मे आपको cricket, सिनेमा जैसे topic पर पोस्ट नहीं मिलेंगे। 

Single Niche blogging के फायदे


इस तरह के single topic blog का content life लंबा कहें या permanent होता है। कोई सा भी एक topic जिसके ऊपर आपका पकड़ हो साथ ही आपका interest भी हो, interest इसलिए की आपको लिखने के साथ लगातार सीखते रहना भी पड़ता है, तभी आप लंबे समय तक टीके रहेंगे, blogging शुरू कर सकते है। 

इस तरह के Single Niche  के subscriber base काफी ज्यादा होते है, क्योंकि उनको पता होता है की आपका अगला पोस्ट क्या होगा। जिसका subscribers को बेसबरी से इंतजार रहता है। 

इस तरह के blogging professional और शौकिया दोनों करते है। इस तरह के blog के लिए जरूरी नहीं की आप कोई technical expert ही हो। कोई भी एक मनपसंद टॉपिक चुनकर सीखते रहे और लिखते रहे। 

Competition का स्तर 

Competition  के लिहाज से Micro topic की अपेक्षा इसमें काफी competition होते है, लेकिन घबराए नहीं। कॉम्पटिशन कहाँ नहीं है। अगर आप ये सोचकर कोई काम शुरू नहीं करते है की इसमें competition ज्यादा है फिर तो आप ज़िंदगी भर कोई काम शुरू नहीं कर सकते। अगर आप सच्ची लगन और मेहनत से कोई भी काम करते है तो कुछ भी असंभव नहीं। काम का मजा तो तभी है जब हम कॉम्पटिशन का सामना करें। 

Income का स्तर 

Income के हिसाब से मै Single Niche Blogging को सबसे अच्छा मानता हूँ। Subscribers ज्यादा होते है, लंबे समय के लिए होते है, genuine होते है तो स्वाभाविक है income के course भी ज्यादा होंगे और लंबे समय के लिए होंगे। 

Traffic Source 

चुकि इस तरह ब्लॉग competition ज्यादा होते है फिर भी इसमें traffic ज्यादा होते है, कारण है ये कई तरह के micro niche का कॉम्बिनेशन होता है, subscribers सबसे ज्यादा है। अगर आपका content अच्छा है readers बार-बार blog पर आते है। 

Adsense में फायदे 

इस तरह के blog पर income के कई source होते है। चुकि blog एक topic पर आधारित होता है, traffic भी ज्यादा होते है तो adsense approval में कोई दिक्कत नहीं होती। इस तरह के ब्लॉग पर topic से हटकर अन्य तरह के advertisement भी देखने को मिलते है जिससे revenue generate होते है। 

Single Niche Blog के नुकसान 

सच कहूँ तो इस तरह के ब्लॉग के कोई नुकसान नहीं है। हलाकी traffic के लिहाज से ये multiple niche से पिछड्ता हुआ दिखता है लेकिन वास्तव में ऐसा है नहीं। क्यों ऐसा नहीं है ये मै आपको Multi Niche Blogging में समझाऊंगा। 

Multi Niche Blogging के फायदे और नुकसान 


multi niche blog image


इस तरह के blogging दो तरह के लोग करते है, पहला  जो शौकिया तौर पर ब्लॉगिंग करना चाहते है। जिनको लगता है कि मै तो cricket पर भी लिख सकता हूँ, शिक्षा, स्वाष्थ और current topic पर भी लिख सकता हूँ। कमाई इनका उद्धेश्य नहीं होता। 

इस तरह के ब्लॉग के लिए दूसरे तरह के लोग में News Agency आते है साथ ही ऐसे लोग जो एक टीम बनाकर काम करना चाहते है। Micro Niche और Single Niche blog पर कोई अकेले काम कर सकता है लेकिन Multiple Niche Blogging अकेले करना संभव नहीं है अगर आप professional तौर पर करना चाहते है। 

चुकि इस तरह के ब्लॉग में किसी भी टॉपिक पर post डाला जा सकता है, जैसे आज cricket world cup पर एक post डालते है तो कल Board exam पर, जो कि एक आदमी के लिए अकेले संभव नहीं है। इसमें एक कंपनी कि तरह काम होता है जिसमें हरेक के काम बटे होते है। 

Multi Niche Blog के फायदे   

हमने ऊपर जो दो ऊपर blog type बताए है उसमें उसके फायदे गिनबाए है, इसका मतलब ये नहीं कि Multi Niche के कोई फायदे नहीं बल्कि नुकसान है। मैंने पहले भी बताया है कि सबके अपने फायदे और नुकसान है। आप किस स्तर पर और किस सोच के साथ काम शुरू करते है। 

Income Source 

इस तरह के blog में हर तरह के contents पाये जाते है और post काफी मात्रा में होते है तो स्वाभाविक है traffic लाखों में होते है। इसमें income के लिए पहले invest करना पड़ता है। काफी मेहनत करनी पड़ती है। 

Traffic Source 

इस तरह के blog पर traffic तो लाखों में होते है लेकिन स्थायी नहीं होते। आज जो reader आया हो जरूरी नहीं कल फिर वो आए। subscribers base दूसरे कि तुलना में कम होते है। कोई भी reader उसी blog को subscribe करता है जो उसके मनपसंद topic से संबन्धित हो। मान लीजिये मैंने एक अपने पसंद के cricket के पोस्ट को पढ़कर multi niche blog को subscribe किया, अगले दिन योगा टिप्स को लेकर मेरे पास notification आ गया जिसमें मुझे कोई interest नहीं। ऐसे में मै उस साइट को तुरत unsubscribe कर दूंगा। 

Adsense  Approval   

इस तरह के साइट पर adsense approval में तो कोई दिक्कत नहीं होती लेकिन साइट को monetize होने में थोड़ा वक्त लगता है। जहां traffic लाखों में होते है तो traffic का bounce rate भी ज्यादा होता है, readers अस्थायी होते है। 

निष्कर्ष 

हर  तरह के ब्लॉगिंग के अपने फायदे और नुकसान है, ये इसपर निर्भर करता है कि आप किस लगन, मेहनत और उद्देश्य के साथ ब्लॉगिंग करते है। ज्यादा सोच - विचार न करें, एक topic से शुरू करें, समय के साथ खुद अनुभव हो जाएगा। 

आशा है आपको ये post पसंद आया होगा, किसी भी तरह के विशेष जानकारी के लिए comment जरूर करे, अपने दोस्तों को share करे ताकि वो लाभ उठा सके। 



No comments:

Post a Comment