HindiBhashi: हिन्दी में SEO और Digital Marketing की पूरी जानकारी

Blogging, SEO, Digital Marketing aur Social Media se related sampurn jankari hindi me jise sikhkar aap Online Work from home se Paise kamaa sakte hai

Krishna

Friday, April 17, 2020

blogger post me dusre post ki link (URL) kaise add kare

Blogger ki Post Me Dusre Post Ka Link (URL) Kaise Add Kare 

Internal Link Building

जब भी कोई हम कोई post लिखते है तो साथ में On-Page SEO करते है। Link building में  On-Page SEO का एक अहम हिस्सा है। Search engine का crawler link building को कुछ ज्यादा ही तवज्जो देता है। 

अक्सर देखा गया है कि जब भी कोई आदमी नया blog बनाते हैं वो link building पर ध्यान नहीं देते, बस पोस्ट लिखकर publish करते चले जाते है। आंखे तब खुलती है जब बहुत सारे पोस्ट लिखने के बाद भी page को rank नहीं मिलता। 

जैसा कि हम सब जानते है किसी भी ब्लॉग post को search engine में अच्छे page rank के लिए On-Page SEO और Off-Page SEO करते है। On-Page SEO का एक अहम factor है Backlink

Backlink दो तरह के होते है। Internal Link और External Link. यहाँ हम चर्चा करेंगे Internal Link की । 

Internal Link क्या है  

आमतौर पर नए blogger link building को priority में लेते नहीं, समझ आने के बाद अगर लेते हैं तो बहुत ही हल्के में। अक्सर लोग समझते हैं एक पोस्ट को दूसरे से link कर दो हो गया। लेकिन ये सहीं नहीं हैं। Internal Link एक बृहद विषय है। इसके पूरे concept को समझने के लिए Internal Link Strategy को जरूर पढे। 

जब भी हम कोई नया पोस्ट लिखते है तो उसमें उसी blog के पुराने post का link जोड़ते है। Internal Link डालते वक्त इस बात का खाश ध्यान रखा जाता है की पुराने पोस्ट का विषय नए पोस्ट से मिलता होना चाहिए। 

Internal Link  के फायदे क्या है 

सवाल उठता है कि internal link के फायदे क्या - क्या है ? अगर आप सोचते है Internal Linking केवल search engine के लिए करते है तो आप गलत सोच रहे। 

Internal link का readers और search engine  दोनों स्तर पर फायदा है। जब भी कोई visitor किसी site पर एक पोस्ट को पढ़ता है तो उसे मुश्किल से तीन से पाँच मिनट लगता है और वापिस हो जाता है। अगर उसी पोस्ट पर उसी विषय से संबन्धित पाँच-सात और link मिल जाता है तो ज्यादा chance होता है कि वो एक-आध पोस्ट को और पढ़ ले। तत्काल वो दूसरा पोस्ट नहीं भी पढ़ेगा तो पढ़ने के लिए दोबारा वापिस आएगा।  

Post पर visitors के बिताए गए समय को bounce rate कहते है। कोई visitor साइट पर जितना ज्यादा वक्त बिताएगा bounce rate उतना कम होगा जो अच्छी बात है। इससे CPC rate बढ़ जाते है। 

अगर search engine के स्तर पर देखें तो जिस पोस्ट में जीतने ज्यादा इंटरनल लिंक होते है search engine का crawler उस पोस्ट को उतनी ज्यादा तवज्जो देता है। crawler कि नजर में जिस पोस्ट में जीतने लिंक उसमें उतने ज्यादा contents। यहीं कारण है कि page ranking में फायदा मिलता है। इस concept को सही से समझने के लिए Googlebot क्या है  को जरूर पढे । 

Blogger Post में दूसरे Post कि Link कैसे Add करें 

एक post को दूसरे post के साथ link करना कोई rocket science नहीं है। बहुत है आसान काम काम है, बस एकबार समझने की जरूरत है। इसके लिए नीचे दिये गए steps को follow करें:

Step 1 

1. Blogger में Login करें, Dashboard खुलेगा 

New post option in blogger

2. New post पर click करे और Post लिखे। यहाँ एक बात ध्यान देनेवाली है। अगर पहले से लिखी गई post में link जोड़ना है तो उस पोस्ट के edit पर क्लिक करें। 
3. अब जिस position पर link जोड़ना है उस जगह पर cursor ले जाएँ 
4. अब Link पर Click करे । 

Click on Link
   
नीचे के image के जैसा एक window खुलेगा 


Step 2 

ऊपर दिये नंबर के हिसाब से steps को follow करें 

1. Text to display :  Link के स्थान पर anchor text में क्या लिखना चाहते है, वो लिखें। 

2. To what URL should दिस link go : आप किस पोस्ट का link करना चाहते है। अपने post के लिस्ट से जिसका link add करना है उसका preview open कर ले और address को copy कर लें । फिर इसमें paste कर दें। 

3. Web address : चुकी आप किसी post का address link करना चाहते है, इसलिए इसको select करें। 

4. Email address : अगर किसी email का address link करना है तो इसको select करना है। 

5. Text this Link : Link डालने के बाद इसपर क्लिक कर चेक कर सकते है कि link काम कर रहा है या नहीं। 

6. Open this link in a new window : Link पर click कर क्या नए page को new window में खोलना चाहते है, अगर हाँ तो इसपर tick करें ।

7. Add "rel=nofollow attribute" : इस लिंक को crawler कि नजर से छुपाना चाहते है या दिखाना चाहते है। site पर ज्यादा nofollow link होना हानिकारक है। इसलिए जबतक बहुत जरूरी न हो refollow का इस्तेमाल न करें । 

8. OK पर क्लिक करें। 

मुबारक हो आपने अपने पोस्ट में दूसरे पोस्ट को लिंक कर लिया है। 

आशा करता हूँ आपको ये पोस्ट Blogger में दूसरे post का link कैसे add करे, पसंद आया होगा, अगर समझने में किसी प्रकार कि परेसानी हो तो comment में लिखे। share करें ताकि दूसरे भी लाभ उठा सके।

No comments:

Post a Comment