HindiBhashi: हिन्दी में SEO और Digital Marketing की पूरी जानकारी

Blogging, SEO, Digital Marketing aur Social Media se related sampurn jankari hindi me jise sikhkar aap Online Work from home se Paise kamaa sakte hai

Krishna

Monday, April 13, 2020

ishtdev darshan kaise

क्या हमें अपने इष्टदेव का दर्शन संभव है, अगर है तो कैसे ? 

goddess  durga

आज के भौतिवादी युग में एक ओर जहां बहुत से लोग ईश्वर की सत्ता को नकारते हैं वही इनको मानने वालो की भी कमी नहीं है। वो बात अलग है  कि जब - जब इंसान मुसीबत में फसता है फिर न मानने वाले भी ईस्वर को मानना शुरू कर देते है। इस मामले मे ये कहने में मुझे कोई आपत्ति नहीं की मानव सदा से ही लालची रहा है। 

इंसान जब सबकुछ से परिपूर्ण होता है उस समय वो भगवान क्या अपने माँ-बाप को भी भूल जाता है लेकिन जैसे ही कोई मुसीबत आया नहीं कि सब काम छोडकर ईस्वर कि आराधना में लग जाता है। इसलिए नहीं कि उसने ईश्वर कि सत्ता को स्वीकार कर लिया है, बल्कि इसलिए कि किसी तरह वर्तमान समस्या से छुटकारा मिले। 

कहते है हर सिक्के का दूसरा पहलू भी होता है। जहां एक ओर ईश्वर कि सत्ता को नकारने वाले लोग है वही ऐसे लोगों कि भी कमी नहीं जो केवल ईस्वर कि सत्ता को मानते हैं बल्कि उनको महसूस या कहें वहाँ तक पहुँचने का भी प्रयत्न करते है। जब-तब हमें सुनने को मिलता है कि फलाने मंदिर में किसी ने  लाखों-कडोरों का दान कर दिया। क्यों? क्योंकि रात उसे स्वप्न में अपने एष्टदेव दिखाई दिये थे। 

क्या ये संभव है? किसी को स्वप्न में अपना इष्टदेव, जिस किसी कि भी वो दिन रात आराधन करता है, दर्शन हो जाये। अपने यहाँ एक बड़ा ही प्रशिद्ध कहावत है:"प्रयास करने से भगवान भी मिल जाते हैं।" प्रयास सही तरीके से किया जाय, सही दिशा में किया जाय तो कुछ भी असंभव नहीं। दशरथ माझीं का नाम आपने सुना होगा? अकेले आदमी ने अपने अथक प्रयाश  से  अकेले, अपने वर्षों के मेहनत से पहाड़ में एक लंबा रास्ता बना दिया। क्या पहले किसी ने ऐसा काम किया? क्या उसके बाद किसी ने कोशिश कि? क्या आप ऐसा कर सकते है, शायद नहीं, क्योकि इसके लिए दृढ़ इच्छा शक्ति चाहिये। 

अक्सर हम अपने धर्म शास्त्रो में पढ़ते हैं, सिनेमा, सीरियल में देखते है कि पहले के समय में हमारे ऋषि-मुनि देवता को प्रशन्न करने के लिए घोर साधना करते थे, जिनका उनको उचित परिणाम भी मिलता था। फिर आज क्यों नहीं? क्या साधना में कहीं कोई कमी रह जाती है। अगर इसका जबाव मैं हाँ में दूँ तो गलत नहीं होगा। 

फिर सवाल उठता है अगर ऐसा है तो प्रयास कैसे किया जाय? ध्यान रहे हमारे ऋषि-मुनि शास्त्र के साथ-साथ योग के भी ज्ञाता होते थे। पूजा- अर्चना उनका नित्य कर्म था, लेकिन भग्वत प्राप्ति के लिए वो घोर साधना करते थे जिसमें योग का अहम महत्व था। योग साधना कि शक्ति को पश्चिमी सभ्यता ने भी स्वीकार कर लिया है।    

हमारे बीच एक ग़लत धारणा फैली हुई है कि धर्म आस्था का विषय है और इसे कैसे भी किया जा सकता है, ये धारणा ग़लत है हमारे धर्म ग्रंथों में 
योग को भी महत्वपूर्ण स्थान दिया गया हैआज हम सब योग के महत्व को जानते हैलेकिन इतना हि जानते है कि योग करने से शरीर स्वस्थ 
रहता है जबकि योग इससे आगे कि चीज़ हैयोग और धर्म का गहरा संबंध हैशस्त्रों के हिसाब से योग का अर्थ ही है आत्मा और परमात्मा का 
मिलन, तो सवाल उठता है एक भक्त उस अवस्था में कैसे पहुँचे जहाँ उसे अपने इष्टदेव के दर्शन होक्या इसके लिए किसी राकेट साइंस कि ज़रूरत हैश्मशान साधने कि ज़रूरत है अथवा महँगी भेंट चढ़ाना चाहिएजी नहीं मेरे हिसाब से इस सब कि कोई ज़रूरत नहीं हैबस योग के रास्ते प्रयास करना चाहिएसफलता निश्चित हैयोग का एक अंग है त्रातकइसी 
त्रातक के द्वारा अपने अंतर्मन को जागृति करने से हम उस अवस्था में 
पहुँच जाएँगे जहाँ हमें अपने अराध्य देव से मिलन होगाआइए अब जानते हैं त्रातक और अंतर्मन क्या है?


अंतर्मन (Sub Conscious Mind)

sub conscious mind

हम दुनियाँ कि पहली सभ्यता है जिसने मन के दो हिस्सों को स्वीकार किया। पहला बाह्य मन और दूसरा अंतर्मन। ये अलग बात है कि अब पश्चिमी सभ्यता के लोग भी इस बात को स्वीकार करते है। 


 हम जागृति अवस्था में जो कुछ सोचते विचार करते है वो सब अपने बाहर मन से जो हमारे बस में हैंजब बाहरी मन अपना काम करना बंद करता है तो अंतर्मन अपना काम शुरू कर देता हैजैसे कि हम सोते हि स्वप्न 

देखना शुरू करते हैहमारा बाहरी मन चालाक होता हैये तर्क करता है|
 अगर हमें कोई कहता है कि तुम बीमार हो तो हमारा बाहरी मन सोचता हैतर्क करता है कि वाकई में मैं बीमार हूँ या अगला वैसे हि बकवास किए जा रहा हैहमारा अंतर्मन बेवकूफ़ होता हैये तर्क नहीं करताये सीधे-सीधे मान लेता हैअगर हमारा बाहरी मन तर्क नहीं करे तो अंतर्मन तुरत मान लेगा कि मैं बिमार हूँउदाहरण स्वरूप अगर दिनभर में दश आदमी
कहे कि  तुम बीमार हो तो हमारा बाहरी मन धीरे-धीरे तर्क करना बंद कर देता है और हमारा अंतर्मन हावी होकर स्वीकार
कर लेता है कि मैं बीमार हूँ और हम शाम तक बिमार हो जाते हैं|


हमारा अंतर्मन बेवकूफ़ होने के बावजूद है बड़ा हि शक्तिशालीजो काम
 हमारा बाहरी मन नहीं कर सकता वो काम हमारा अंतर्मन कर सकता हैजैसे  हमारा बाहरी मन भूत-भविष्य में नहीं देख सकता लेकिन अंतर्मन देख सकता हैयहाँ तक कि ये पिछले या अगले जन्म तक दौर लगा सकता हैये हमेशा भागता रहता हैये हमारे वश में नहीं रहताज़रूरत होती है इसी अंतर्मन को अपने वश में करने किअगर हम इसको एकबार वश में कर लेते है फिर हम इससे वो 
सब काम करा सकते है जो ये कर सकता है जैसे भूत-भविष्य देखना या दूर बैठे किसी घटना को जाननाहमारे ऋषि-मुनि इस अंतर्मन और इसके ताक़त को हज़ारो वर्ष पूर्व पहचान गये थे
उन्होने जन कल्याण कि भावना से इसको साधने के तरीके शास्त्रों में
 बतलायालेकिन हम पश्चिम सभ्यता कि ओर आकृष्ट होते गयेपश्चिम वाले जिनको इस अंतर्मन के बारे में कुछ भी पता नहीं था । जब उन्होने इसकी ताक़त को जाना तो वो फ़ायदे उठाने में हमसे आगे 
निकल गयेआज पश्चिम जगत चिकित्सा के क्षेत्र  में इससे फ़ायदा उठा
 रहा है और हम मुँह उठाए आश्चर्य से उसकी तरफ देख रहे हैंइसी अंतर्मन को अपने वश में करने का तरीका है त्रातक|



त्राटक (Eye Concentration )

 भारतीय योगदर्शन में शरीर शुद्धि के कर्म बतलाए गये हैवस्तिधौतिनौलिनेतिकपालभाँति और त्रातकइसमें त्रातक सबसे महत्वपूर्ण और काम कि चीज़ हैकिसी भी विंदुदीपक अथवा मूर्ती पर बिना पलक 
 झपकाये टकटकी लगाकर देखने कि क्रिया को त्रातक कहते हैंत्रातक से 
दृष्टि स्थिर होती है दिमाग़ विचार शून्य बनता हैनेत्र बंद होने पर तुरंत ध्यान लग जाता है और जीवन में पूर्णता प्राप्त होती हैलगातार कुछ दिनों तक त्रातक क्रिया करने से कई प्रकार कि सिद्धियाँ प्राप्त होती है जैसे
 किसी को सम्मोहित कर सकते है इत्यादि|वैसे तो त्रातक करने के भी कई तरीके हैं लेकिन हम यहाँ केवल मूर्ती त्रातक कि चर्चा करेंगेआइये जानते हैं कैसे करे मूर्ति त्रातक सिद्धि|

त्रातक करने के तरीके 

eye concentration

किसी समतल भूमि पर सहज अवस्था में बैठेंदो फीट कि दूरी पर आँख के समानांतर उँचाई पर इष्टदेव  का चार से इंच कि  मूर्ती स्थापित करेअब आँख से आँख मिलाकर देखना शुरू करेंशुरुआत में आधा-एक मिनट देखें फिर कुछ क्षण आँख बंद करेंध्यान रहे आँख के साथ
 ज़बरदस्ती  करेंआँख में पानी आने अथवा दर्द होने पर कुछ देर के लिए आँख बंद कर लेंएक बैठक में आधा घंटा यह क्रिया करेंपूरे दिन में पाँच-सात बार यह क्रिया कर सकते है|

मूर्ति को आँख में आँख मिलाकर देखने के बाद जब आँख बंद करें तो बंद आँख से मूर्ति को देखने कि कोशिश करेंकुछ दिन प्रयाश के बाद आँख बंद करने पर आपको कभी रोशनीकभी कोई दृश्य जैसे नदीतालाबजंगल जिसको पहले कभी आपने नहीं देखाकभी क्षण भर के लिए आपको मूर्ति भी दिखाई देगासमझ लीजिए आपका प्रयाश सफल हो रहा हैइन सब
 दृश्यों को देखने में जो आपको आनंद कि अनुभूति होगी विश्वास किजिये आपने कभी कल्पना तक नहीं किया होगाइस दरम्यान आपको कभी
 डरावनी दृश्य भी दिखाई देगाघबराने कि ज़रूरत नहीं हैप्रयाश जारी रखेंजल्दी ही आप उस मुकाम तक पहुँच जाएँगे जिसके लिए आपने ये शुरू किया थाइसके अन्य फ़ायदे भी हैं जैसे हमारा मन जो दश जगह भटकता रहता है वो एकाग्र होना शुरू हो जाता हैहमारी शारीरिक उर्जा बढ़ जाती है जिससे स्वस्थ होते हैआत्मविश्वास बढ़ता है और काम करने कि क्षमता बढ़ जाती है|

अगर आप केवल आखों कि शक्ति बढ़ाने के लिए करना चाहते है तो मूर्ति जगह पर कोई बिन्दु, दीपक इत्यादि का प्रयोग कर सकते है। 

आशा है आपको ये पोस्ट पसंद आया होगा। अगर आपको को लगे कि पोस्ट अच्छा है तो इसको अपने दोस्तों को share करे और नीचे एक comment जरूर करे। 

2 comments: