HindiBhashi: हिन्दी में SEO और Digital Marketing की पूरी जानकारी

Blogging, SEO, Digital Marketing aur Social Media se related sampurn jankari hindi me jise sikhkar aap Online Work from home se Paise kamaa sakte hai

Krishna

Monday, April 20, 2020

keyword research kya hota hai aur kaise kare in hindi

Keyword Research क्या है, कैसे करते है और SEO में इसका महत्व 

keyword research kya hai on page seo

जब भी हम कोई नया काम शुरू करते है तो हमे उस काम से संबन्धित बहुत सारे technical elements पर ध्यान देने की जरूरत पड़ती है। ऐसे ही जब हम blog शुरू करने का विचार करते है तो जरूरी हो जाता है की हम इसके एक-एक terms को समझे। इसके एक-एक elements  के बारे में सीखे। जब भी हम कोई नया काम शुरू करते है तो कुछ चीजों पर हमे शुरू करने से पहले ध्यान देना पड़ता है और कुछ पर काम शुरू करने के बाद । 

अगर आप blogging करने के बारे में सोच रहे है या कहे blogger बनना चाहते है तो आपको बहुत सारा चीज सीखना पड़ेगा, थोड़ी जल्द्वाजी, थोड़ी से गलती करेंगे और ब्लॉगिंग के रेस से बाहर ।  

नब्बे प्रतिशत भारतीय लोग ब्लॉगिंग में असफल हो जाते है, कारण अति आत्मविश्वास, जल्द्वाजी, जल्द से जल्द पैसा कमाने की चाहत। एक बात ध्यान रखे ब्लॉगिंग हमारा concept नहीं है। इसलिए जरूरी हो जाता है कि इसके एक-एक  को element समझे।

चलिये विषय पर आते है। सबसे पहले समझे Keyword क्या है और इसका क्या महत्व है।  आप अच्छी तरह ये समझ गए कि keyword क्या है तो अब समझने कि जरूरत है Keyword Research कैसे करते है, SEO में इसके क्या फायदे है। 

सुनने में ये काफी आसान लगता है कि keyword क्या है या keyword को कैसे रिसर्च करे, लेकिन ये इतना आसान विषय नहीं है। आप इस बात से इसका अंदाजा लगा सकते है कि कई famous website keyword research के बल पर चल रही है जैसे Semrush, ahrefs, Moz इत्यादि। 

सबसे पहले जानते है keyword research क्या है, क्यो जरूरी है और SEO में इसका क्या महत्व है। 

Keyword Research क्या है  

मोटे तौरपर समझे तो ये एक प्रक्रिया है ये जानने का की लोग जब internet पर  कुछ सर्च करने के लिए कुछ लिखते हैं तो किस term का इस्तेमाल करते हैं। या कहें तो किस word या phrases का इस्तेमाल करते है, इस्तेमाल किए गए word को किस तरह लिखते हैं।  

एक ब्लॉग बनाकर पोस्ट लिख देना ही काफी नहीं होता। किसी blog की सफलता इस बात पर निर्भर करती है की उस पर ट्रेफिक कितने आते हैं। 

Blog पर traffic तभी आएंगे जब internet पर trend होने वाले keyword या phrases का इस्तेमाल करेंगे। ये जानना बहुत ही जरूरी होता है कि आप जो पोस्ट लिख रहे है अथवा किसी product का प्रचार कर रहे हैं उससे related किस - किस word या phrases का google में इस्तेमाल किया जाता है। 

Keyword Research के SEO में फायदे 

Keyword research SEO का basic element है जिसके माध्यम से हम ज्यादा से ज्यादा readers तक अपनी पहुँच बनाते हैं जो कि हमारा मुख्य मकसद होता है। इसके अलावे भी हमें बहुत सारे फायदे मिलते जैसे-

  • Trending keyword और related keyword का पता चलता है। 
  • Page ranking में में फायदा मिलता है। 
  • Traffic कि मात्र बढ़ जाती हैं। 
  • Domain Authority (DA) में सुधार होता है। 
  • अपने keyword के competition का पता चलता है। 
  • Income के लिहाज से CPC का पता चलता है। 
  • हमें अपने अगले पोस्ट के लिए भी idea मिल जाता है। 
  • अगर हम trending topic पर post लिखते है तो ads affiliate marketing में भी फायदा मिलता है। 

Keyword Research कब करना चाहिए 

Keyword reaserch Search Engine Optimization का पहला स्टेप है। इसकी जरूरत हमें On-Page SEO में पड़ती है। 

  • जब हम किसी नए विषय (Niche) पर लिखना चाहते हैं। 
  • उसी niche पर जब हम कोई नया पोस्ट लिखना चाहते हैं। 
  • पुराने post या contents को नए packing के साथ पेस करना चाहते हैं।  

Keyword Research का इतिहास 

समय-समय पर keyword का तरीका भी बदलता रहता है। शुरुआती दौर में लोंगों का मुख्य focus इस बात पर रहता था की ज्यादा से ज्यादा किस keyword का use होता है, उसका अत्यधिक प्रयोग। Web developer contents पर कम और keyword stuffing या कहें Keyword Density  पर ज्यादा ध्यान देने लगे। जिसका परिणाम हुआ contents की quality गिरती चली गयी। 

इन सबसे बचने के लिए गूगल समय-समय पर अपने algorithm में बदलाव करता रहता है। इसके पीछे गूगल का मुख्य मकसद यही रहता है की users के सामने अच्छे से अच्छा contents पेस किया जाय। 

वर्तमान में जो मुख्य algorithm में बदलाव हुए हैं, जिसके कारण कारण keyword रिसर्च का नजरिया भी बादल गया वो इस प्रकार हैं: 

  • Panda : ये मुख्य रूप से घटिया क्यालिटी और duplicate contents को पकड़कर penalize करता है।  
  • Penguin : जब कोई google के मापदंड को तोड़कर एक ही keyword को अत्यधिक मात्रा में प्रयोग करता है। 
  • Hummingbird : ये गलत तरीके से इस्तेमाल किए गए Backlink  को पकड़ता है। 

 algorithm evolution for keyword research


आज के तारीख में keyword रिसर्च का मुख्य मकसद है post के लिए सही keyword की तलाश और उसका उचित तरीके से इस्तेमाल। 

Keyword research का मुख्य मकसद ये होना चाहिए की लोग गूगल पर क्या ढूंढ रहे हैं। हम जो contents रीडर्स के सामने परोस रहे हैं वो उनकी जरूरत पर खड़ा उतरता है या नहीं। 

दूसरे शब्दों में कहे तो keyword research केवल अपने पसंद के keyword को ढूँढना नहीं बल्कि readers क्या चाहता है इस बात का पता करना हैं। 


Keyword Research के Stages 

अगर हम सही से keyword research करें तो इस प्रक्रिया को तीन भागों में बाँट सकते हैं। 

1. जरूरत का keyword ढूँढना

2. Keywords को analyze करना 

3. Keywords का प्रयोग 

Finding Keywords (Keywords ढूँढना) 

इस प्रक्रिया में जो पहला काम आता है वो है अपना Niche  या विषय का फ़ाइनल करना। जबतक niche नहीं फ़ाइनल करेंगे तबतक कुछ भी करना अंधेरे में तीर चलाने के जैसा होगा। 

एकबार जब अपना niche फ़ाइनल कर लेते है तो प्रश्न उठता है, कैसे करें? इसके लिए मार्केट में बहुत सारे फ्री और paid tool उपलब्ध हैं। 

इसके अलावा भी बहुत सारा tool हैं, सबकी अपनी-अपनी खासियत है, आप अपने पसंद से चुन सकते हैं। 

Keyword ढूँढने का base 

अब मान लीजिये आपका नीचे हैं Health। आप क्या keyword use करेंगे health, वजन घटाने के घरेलू नुस्खे बता रहें हैं, क्या केयवोर्ड use करेंगे? वजन घटाएँ? दोनों परिस्थिति में कुछ भी हासिल नहीं होगा। अगर हम इसको इस प्रकार लिखें :

  • मोटापा सौ बीमारियों का जड़ 
  • मोटापा घटाने के दश अचूक घरेलू नुस्खे
  • मोटापे का अचूक देशी इलाज़ 

Keyword Competition 

ध्यान रहे जब हम keyword रिसर्च करते है तो उसके competition का भी ध्यान् रखते हैं। keyword जितना छोटा होगा उसमें competition उतना ज्यादा होगा। keyword जितना लंबा होगा competition result भले ही कम आए लेकिन competition कम होता है। 

इसे Longtail Keywords  कहते हैं। पूरी दुनियाँ में 70% search longtail keyword से होता है। 

लोंगटाइल Keyword Search Result
  


Keyword Research Tool के फायदे 

Keyword research tool से हमें केवल keyword नहीं मिलता बल्कि और भी कई फायदे मिलते हैं। जैसे: 

  • इससे समय का बचत होता हैं। एक ही बार में हम सैकड़ों keyword research कर सकते हैं। 
  • इससे हमें वो डाटा भी मिल जाता है जो वगैर इस research tool के संभव नहीं, जैसे: competition, SERP result, difficult, keyword volume इत्यादि । 
  • इस तरह के tool से हमें कुछ ज्यादा advantages मिल जाता है, उनकी अपेक्षा जो टूल का प्रयोग नहीं करते। 

keyword research हम मुख्यतः दो बेस पर करते हैं:

  • पहला अपने niche के हिसाब से keyword पाना 
  • अपने competitor के strategy को जानना 

Keywords as per your niche

इस तरह के search में हमे जो result मिलता है प्रायः हम इसकी चर्चा ऊपर कर चुके हैं।  

Competitor based Keyword Research 

इसमें मुख्यतः ये पता लगाया जाता है कि आपके competitor का कौन सा keyword rank कर रहा है। 

दूसरी बात आपके keyword पर कौन-कौन से लोग काम रहे हैं।  

इस तरह कि जानकारी केवल paid tool में मिलती हैं। 

Keyword को analyze करना 

अब जबकि बहुत सारा keyword पा लिए है तो बारी आती है अपने जरूरत के सबसे महत्वपूर्ण keyword का selection करना। 

इसको हम प्रायः तीन बातों के आधार पर select करते हैं। जैसे; popularity, diffficulty और relevance. 

  • किसी keyword कि search volume तो high है difficulty low है मगर आपके niche से match नहीं करता या कहें relevant नहीं है फिर आपके किसी काम का नहीं। 
  • difficulty low है आपके हिसाब से relevant भी है मगर search volume बिलकुल नहीं है फिर ये किसी काम का नहीं। 
  • अगर सर्च volume भी ठीक हैं, relevant भी है लेकिन difficulty बहुत ज्यादा है फिर rank करवाना मुश्किल हैं। 

1. Popularity of Data 

Popularity से तात्पर्य search volume से है। इसमें साल में सालभर में किसी keyword के खोजे गए संख्या को महीने में convert करके दिखाया जाता है। 

Keyword ressearch tool हमें जो कुछ result देते हैं वो मुख्यतः दो तरह के search data volume का इस्तेमाल करते हैं :

  • Google Data : इसमें google में search किए data के आधार पे 
  • Clickstream Data: इसमें internet user का behavior देखा जाता है। इसमें data source मुख्य रूप से browsers  plugin इत्यादि होते है। 

अलग-अलग tools अलग-अलग डाटा source का इस्तेमाल करते हैं, और सबका डाटा को process करने का तरीका अलग- अलग होता हैं इसलिए रिज़ल्ट में थोड़ा-बहुत परिवर्तन की संभावना रहती हैं। 

यही कारण है की किसी भी result को 100% सही नहीं मान सकते। आपको जिसपर विश्वास हो उसको सही मानकर काम करें। Keyword research tool द्वारा provide किया गया कोई भी result idea मात्र हैं। आपका असली tool आपका SEO Friendly contents है, अगर ये अच्छा है तो आज न कल rank करेगा। 

2. Keyword Difficulty 

Keyword difficulty एक metrics है जो हमें बताता है कि ये इसको rank करने में कितना difficulty है। koi Keyword जितना difficult होगा site पर rank करने में उतना कठिन  होगा।

इसलिए Keyword search करते समय इस बात का खाश ध्यान रखा जाता है कि difficulty कम से कम हो। 

किसी भी keyword को rank करने के लिए post में use किए गए keyword के अलावे backlink का भी खाश महत्व होता हैं। 

3. Relevance : 


यहाँ हमारे पास दो option होते है: 

1. ऐसा keyword जो हमारे product ya post को match करे या कहें customer के जरूरत को पूरा करे। 

2. दूसरा ऑप्शन बचता है हम अपने product या post को customer के मांग के हिसाब से optimize करे। 

Keyword का इस्तेमाल कैसे करें

इतनी मेहनत करने के बाद अब सवाल उठता है keyword का प्रयोग कैसे करें । Keyword के best practice कि जो मान्यता है वो इस प्रकार है: 

1. Title में 

2. Heading (H1)

3. First Paragraph 

4. Meta Tags 

5. Contents में एक से दो बार 

6.  Conclusion 

पूरे पोस्ट में 2 से 3% इससे ज्यादा नहीं। जहां-तहां इस्तेमाल बिलकुल न करें। Keyword Density ज्यादा होने से google site को penalties कर सकता हैं। 

LSI (Latent Semantic Indexing) 


LSI KEyword  का substitute है। ये real keyword से बिल्कुल  मिलता जुलता हैं। इसको लोग keyword stuffing से बचने के लिए करते हैं। लेकिन इसका use तभी करना चाहिए जब ज्यादा जरूरत हो और ध्यान रखना चाहिए कि ये post के content को अर्थ विहीन न कर दें। 

Long contents का इस्तेमाल करे 

ये सावित हो चुका है कि post का content जितना लंबा होगा उसको rank करने के उतने ज्यादा chance होते हैं। किसी भी पोस्ट में content कि लंबाई 1500 से लेकर 2000 words कि होनी चाहिए। लंबे content होने से इसके अलावे भी कई फायदे हैं, जैसे: 

  • Content जितना लंबा होगा, reader उतनी ज्यादा देर पर टिकेगा ।
  • Content लंबे होने से keyword से मिलते-जुलते word का अधिक से अधिक इस्तेमाल करने का मौका मिलता है। 
  • लंबे content में हम विषय को अच्छे से define कर सकते है जिससे reader के प्रश्न का सही उत्तर मिलेगा । 
  • लंबे content में ज्यादा से ज्यादा internal link लगाने के मौके मिलते है जिससे readers को कई post पढ़ने को मिलने को मिल जाते हैं। 

Conclusion 

 Keyword research क्या है आप समझ गए होंगे। इसके अलावे Keyword research के लिए data source क्या है, Keyword research के कौन-कौन से tool available हैं। इसका base क्या है, Keyword research कैसे करते हैं, Keyword का इस्तेमाल कैसे करते है। LSI keyword क्या है। हर एक चीज को एक पोस्ट में लिखना संभव नहीं था इसलिए बीच-बीच में link दिया हुआ है। Link में दिये हुए पोस्ट को अवश्य पढ़ें ताकि concept सही से clear हो। 

आशा करता हूँ ये पोस्ट आपको अच्छा लगा होगा, एक comment जरूर करे। अधिक से अधिक share करें ताकि दूसरे भी लाभ उठा सके। 




No comments:

Post a Comment